Rajasthan

केंद्रीय रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव के अनुसार, जिन्होंने ट्विटर पर वंदे भारत का वीडियो साझा किया, भारत की यह लोकोमोटिव-कम ट्रेन, जिसे वंदे भारत एक्सप्रेस और ट्रेन 18 के रूप में जाना जाता है। परीक्षण के दौरान इसने 180 किमी प्रति घंटे की गति सीमा पार कर ली हैं। यह भारत की सबसे तेज़ दोड़ने वाली ट्रैन बन गई हैं।

वंदे भारत

वंदेभारत -2 का स्पीड परीक्षण कोटा-नागदा ट्रेक के बीच 120/130/150 और 180 किमी प्रति घंटे पर शुरू हुआ, “अश्वनी वैष्णव ने वीडियो साझा करते हुए ट्विटर पर लिखा। वंदे भारत अब तक की सबसे तेज़ शाताब्दी एक्सप्रेस ट्रेन की जगह लेलेगी । यह ट्रेन 180 200 किमी प्रति घंटे को छूने में सक्षम है बशर्ते भारतीय रेलवे की बाकी प्रणाली जैसे ट्रैक और सिग्नल की अनुमति हो। 16 डिब्बों के साथ, ट्रेन में शताब्दी एक्सप्रेस के समान यात्री बेठाने की कैपेसिटी होगी। इसमें स्टेशन से वापस जल्दी चलने के लिए दोनों सिरों पर वायुगतिकीय रूप से डिज़ाइन किए गए ड्राइवर केबिन हैं।

वंदे भारत

वंदे भारत एडवांस ब्रेकिंग सिस्टम को स्पोर्ट करती है

ट्रेन एक एडवांस ब्रेकिंग सिस्टम को स्पोर्ट करती है जो बिजली की बचत भी करता है। पूरी तरह से AC ट्रेन बेहतर यात्री आराम और सुरक्षा प्रदान करती है, क्योंकि सभी उपकरण गाड़ी के अंदर लगे हुए हैं , ताकि बोर्ड पर अधिक स्पेस मिल सके।

वंदे भारत

110 किमी के सफल ट्रायल रन के बाद वंदे भारत का दूसरा ट्रायल रन कोटा-नागदा सेक्शन पर शुरू हुआ इस ट्रायल रन कोटा और नागदा रेलवे स्टेशन के बीच 225 किमी सेक्शन में किया गया, जिस पर ट्रेन 180 किमी प्रति घंटे की अधिकतम स्पीड से दौड़ें।

रेलवे के मुताबिक ट्रायल रन पूरा होने के बाद इसकी रिपोर्ट रेलवे सेफ्टी कमिश्नर को भेजी जाएगी. सुरक्षा आयुक्त से हरी झंडी मिलने के बाद नई वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन दूसरे नए रूट पर चलने लगेगी। हालांकि इस पर अभी फैसला होना बाकी है। सूत्रों ने बताया कि नई ट्रेन अहमदाबाद और मुंबई के बीच चलाई जा सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *